बालसाहित्य लेखन एवम चुनौतियाँ






 *राजकुमार जैन राजन*

 

     बालक किसी भी देश, समाज, संस्कृति का ही नहीं अपितृ सम्पूर्ण मानव जाति की पूंजी होता है। बच्चों में हमारा भविष्य 

दिखाई देता है। वे कल की उम्मीद बंधाते हैं।बालक ईश्वर की बनाई वह अनुपम कृति है जिससे कायम है जीवन धारा ,संस्कृति और शाश्वत मूल्य। बालक जितने सुकोमल होते  है उतने ही जिज्ञासु भी। यही कारण है कि बालमन सबसे अधिक संवेदनशील होता है। अपने आस- पास की घटनाओं से सबसे पहले यही प्रभावित होता है।

 

     बच्चों के मानसिक विकास के लिए साहित्य की अनिवार्यता स्वयं सिद्ध है । सवाल यह है कि बालसाहित्य किसे कहें ?  बालसाहित्य के मनस्वी रचनाकार निरंकारदेव सेवक के शब्दों में कहें तो, "जिस साहित्य से बच्चों का मनोरंजन हो सके, जिसमें वे रस ले सकें और जिसके द्वारा वह अपनी भावनाओं और कल्पनाओं का विकास कर सके….  वह बालसाहित्य है।" साहित्य की अनेक परिभाषाएं विद्वान विचारक अत्यंत प्राचीनकाल से करते आए हैं, पर किसी एक को भी बाल साहित्य की सम्पूर्ण परिभाषा नहीं कहा जा सकता। बच्चों का मन इतना चंचल और कल्पनाएं इतनी तेज होती है कि किन्ही निश्चित नियमों में बंधा हुआ साहित्य उसके लिए लिखा नहीं जा सकता।

 

      बालक जिस अवस्था मे बोलना , सुन्ना और जानना शुरू करता है, उस अवस्था में उसके मनोविज्ञान में  बराबर एक जैसी स्थिति बनी होती हैं। बच्चे के लिए पहली रचना का जन्म उसी दिन शुरू हो जाता है जब उसके मन मे जिज्ञासा का जन्म होता है। बालसाहित्य की परंपरा वाचन और श्रवण से शुरू होती है। बाद में "पंचतंत्र"  व "हितोपदेश"  की कहानियों के माध्यम से लिखित रूप से बालसाहित्य स्थापित हुआ। "शिशुवय में माँ की लोरियों एवम दादा- दादी की कहानियों के रूप में बाल रचनाओं का  ही आस्वाद होता है। धीरे - धीरे कहानी, कविता, लोककथा, लोरी, जीवनी, नाटक, संस्मरण, यात्रा साहित्य, पत्र लेखन और कई विधाओं का साहित्य  पत्र -पत्रिकाओं, पुस्तकों के रूप में बालकों के सामने आता रहा। अब तो डिजिटिलाइजेशन के बाद ऑडियो, वीडियो,  ई-पत्रिका के रूप में बालसाहित्य प्रसार पा रहा है। कुल मिलाकर बालक और बालसाहित्य का रिश्ता पुराना होते हुए भी नित नए रंगों, विधाओं से सज रहा है और बालकों में प्रेरणा का संचार कर रहा है।

 

      यह मेरी अप्रतिभा ही है कि आज तक मैं यह नहीं समझ पाया कि बालसाहित्य को वादों, सिद्धांतों, नियमों में क्यों बांधा जाता है। बालसाहित्य के प्रति जो थोड़ी बहुत समझ पिछले दो दशक में बनी उस आधार पर मैं बस इतना ही कह सकता हूँ कि आज के बाल साहित्यकार और हम बच्चों के प्रति संवेदनशील है लेकिन सरकारी नुमाइंदे अपनी राजनीतिक स्वार्थपरता के कारण बच्चों के मौलिक अधिकारों और उनकी समस्याओं के प्रति उदासीन हैं और अनदेखी कर रहे हैं। ये लोग गहराई में जाना नहीं चाहते और महिमा मंडित भी होना चाहते हैं।ऐसी परिस्थिति में अब  अभिभावक, शिक्षक और साहित्यकारों से ही आशा की किरण नज़र आती है। बच्चों में संस्कार जागृत करने, उन्हें मानवीय व नैतिक मूल्यों से जोड़ने के लिए बालसाहित्य  से जुड़ाव आवश्यक है।  बालसाहित्य से मेरा आशय  बच्चों के लिए लिखे जाने वाले साहित्य से है जो बालक को संस्कार, जीवन जीने की राह, आत्मविश्वास, स्वावलम्बन, राष्ट्र प्रेम और परिवेश को समझकर सकारात्मक करने की प्रेरणा दे।

   

        आज हर विधा में बालसाहित्य प्रचुर मात्रा में लिखा जा रहा है। बालसाहित्य सृजन का 120 वर्ष से भी पुराना इतिहास होने के बावजूद आज भी अधिकांश हिन्दी बालसाहित्य रचनाकारों के समक्ष आधुनिक बाल साहित्य की अवधारणा स्पष्ठ नहीं है। बावजूद पत्रिकाएँ प्रकाशित हो रही हैं। प्रतिवर्ष धड़ल्ले से बाल साहित्य की पुस्तकें प्रकाशित हो रही है।

 

      आज साइबर दुनिया के कारण बच्चों की भाषा और सोच बदल रही है। वे जो देख रहे हैं वही भाषा बोल रहे हैं। ऐसे में बालसाहित्य रचनाकारों की भूमिका और भी महत्वपूर्ण हो जाती है।

     वर्तमान में बालसाहित्य समझने वालों की महत्ता बढ़ रही है। वर्तमान परिवेशानुसार सृजन करने वाले कई नए- नए नाम भी सामने आ रहे हैं। यहां मैं कहना चाहूंगा कि बड़ों के लेखन की अपेक्षा बच्चों के लिए लिखना अधिक प्रतिबद्धता, जिम्मेदारी, निश्चलता, मासूमियत जैसी खूबियों की मांग करता है। बच्चों के लिए लिखना कठिन होता है। इसके लिए आवश्यक है कि लेखक अपनी शैली, शब्द भंडार तथा उसकी प्रस्तुति के लिए स्वयम को उसी आयु वर्ग के बच्चे  के मानसिक स्तर के धरातल तक उतारे, जिनके लिए वह लिख रहा है। उसे बालक बनकर ही लिखना होगा क्योंकि बालक ही उसका पाठक भी होगा, वही उसका समीक्षक भी होगा।

 

        आज साहित्य में स्थापित, अनुभवी तथा प्रतिष्ठित लेखक बालसाहित्य लेखन में रुचि नहीं दिखाते । फिर भी कुछ लेखकों ने कलम उठाई है और बच्चों के लिए अच्छी रचनाएँ लिखी एवम लिख रहे हैं। इधर स्थिति तेज़ी से बदल रही हैं। बाल साहित्यकार भी सहित्य  जगत में प्रतिष्ठित हो रहे हैं और बाल साहित्यकार के रूप में उनकी मान्यता तथा बच्चों के लिए बहुत उपयोगिताओं, कल्पनाओं, को आधार बनाकर तरह -तरह का बालसाहित्य लिखा जा रहा है। बच्चों के लिए ज्ञान कोष, शब्द कोष भी आये हैं। वर्तमान में पशु- पक्षियों, प्रकृति और पर्यावरण आदि को माध्यम बनाकर बहुत कुछ सृजित किया जा रहा है। हम देखते हैं कि हमारा बालसाहित्य  परम्परागत लोक कथाओं और परि कथाओं से शुरू होकर ज्ञान विज्ञान की रोचक और मनोरंजक जानकारियों से समृद्ध होता जा रहा है जिससे बालक के ज्ञान का क्षितिज बहुत विस्तृत हो रहा है।

 

       जहां बालसाहित्य लेखन, प्रकाशन बहुलता से हो रहा है, वहीं बालसाहित्य जगत  चुनौतियों का सामना भी कर रहा है। बच्चों के लिए लिखना और उसे सुंदर चित्रों सहित प्रकाशित करना...सचमुच एक कला है। एक पुस्तक का प्रकाशन कार्य पूर्ण करने के बाद लेखक अपने को गौरवान्वित महसूस करता है। पत्र -पत्रिकाओं में समीक्षा आ जाती है….और जैसे तैसे उस बालसाहित्य की पुस्तक पर सम्मान/ पुरस्कार का प्रबंध भी हो जाता है। यह जता दिया जाता है कि लेखक ने बाल साहित्य को अमूल्य अवदान दिया है। बधाइयां ही बधाइयां...चर्चे ही चर्चे….। क्या तब कहीं कोई चिंतन करता है कि बालसाहित्य के नाम पर बच्चों के लिखी गई ये पुस्तकें बालकों तक कितना पहुंच पाती है….?? शायद नहीं।

 

          ऐसा नहीं है कि सब जगह ऐसा ही हो रहा है। राष्ट्रीय पुस्तक न्यास,  भारत ज्ञान विज्ञान समिति, एकलव्य प्रकाशन, चिल्ड्रन बुक ट्रस्ट, रूम टू रीड, संपर्क फाउंडेशन, राजकुमार जैन राजन फाउंडेशन,दिल्ली प्रेस प्रकाशन, अजीम प्रेमजी फाउंडेशन, अभिनव बालमन, बाल प्रहरी, बाल वाटिका एवम सलिला जैसी संस्थाएं व व्यक्ति अपने -अपने प्रयासों से बाल साहित्य बालकों तक पहुंचाने और उनमें पठन -पाठन की रुचि पैदा करने में समर्पित भाव से लगे हुए है… पर ये प्रयास भी 'ऊंट के मुंह में जीरा' ही साबित हो रहे हैं। वस्तुतः बालसहित्य समारोहों में बालसाहित्य बच्चों तक नहीं पहुंच पाने की चर्चा से आगे बढ़ ही नहीं पाता। देखा जाए तो बालसाहित्य लेखक ,प्रकाशक,पत्रिका संपादक,  समीक्षक व पुरस्कार प्रदाता संस्थाओं से आगे उसके वास्तविक हकदार "बालक" तक पहुंच ही नहीं पा रहा है।

 

     मेरी समझ में आज तक यह नहीं आ पाया कि क्यों वादों ओर गुटों में बंटे बालसाहित्य की दुनिया में कुछ लोंगों ने स्वयं को बालसाहित्य का खेवन हार मान लिया है….. बालसाहित्य को बच्चों तक पहुंचाने में सबसे बड़ी बाधा  बाजारवाद एवम मठाधीशी है…. कई तरह की बौद्धिक बहसें भी जारी है...हमें इससे कोई मतलब नहीं। आज हर मंच व अकादमियां बालसाहित्य को  चर्चा के केंद्र में रख रहे हैं….यह खुशी की बात है...। इस वर्ष राजस्थान के यशस्वी मुख्यमंत्री माननीय अशोक गहलोत की अनुकरणीय पहल रही कि बाल साहित्य अकादमी की वर्षों से चली आ रही मांग को उन्होंने स्वीकार किया और राजस्थान में "जवाहर लाल नेहरू बाल साहित्य अकादमी" गठन की घोषणा की है जो यह दर्शाता है कि उनके मन में बाल साहित्य उन्नयन व बाल कल्याण के लिए विशेष सम्मान है। बाल साहित्य अकादमी के गठन से बड़े पैमाने पर बाल साहित्य गतिविधियां संचालित हो सकेंगी। 

 

       एक प्रश्न यह भी उठता है कि इतना बालसाहित्य प्रकाशित होता है तो जाता कहां है?? विडम्बना ही है कि  ज्यादातर पुस्तकें सरकारी खरीद के खाते में जाकर अलमारियों में कैद हो जाती हैं ? यदि कुछ बाज़ार में पहुंचती भी है तो उनका मूल्य इतना अधिक होता है कि अभिभावक उस पुस्तक को खरीद कर बच्चों को देने में कोई उत्साह नहीं दिखता।

 

        आज विश्व नई तकनीक के दौर में है।जहाँ सोशल मीडिया हमारे जीवन का अनिवार्य अंग बन गया है। बालक कम्प्यूटर मोबाइल में ही उलझा रहता है। एक जमाने में हर दैनिक अखबार सप्ताह में एक या दो बार बालसाहित्य परिशिष्ट 

 प्रकाशित करते थे, वे बन्द हो गए हैं या बाल साहित्य के नाम पर कुछ दे भी रहे हैं। इंटरनेट से ली गई सामग्री, विदेशों से आयातित अनुदित सामग्री दे रहे है। यही हाल कमोबेश कई बाल पत्रिकाओं का भी हो गया है। इससे बालसाहित्य सृजन करने वालों का मनोबल टूटा है। आज न बालसाहित्यकार को न ही उसके द्वारा रचित साहित्य को वह महत्व मिल पा रहा है जिसका वह अधिकारी है। उसको मिलने वाली पुरस्कार राशि मे भी भेदभाव  किया जाता है। उसके साहित्य के लिए न पर्याप्त निष्पक्ष पत्र -पत्रिकाएं है न  समीक्षक। कुछ अपवाद हो सकतें है। साहित्य के इतिहास में उसके उल्लेख के लिए पर्याप्त जगह नहीं है। कुछ पत्रिकाओं में बालसाहित्य के इतिहास अथवा विमर्श पर चर्चा होती तो है, वह भी केवल उसी लेखन की जो लिखने वालों तक पहुंच गया होता है। कई समीक्षक लेखक के प्रति पूर्वाग्रहों के चलते उसकी उत्कृष्ठ कृति की चर्चा तक नहीं करते।

 

        बाल साहित्यकारों को जो पुरस्कार सम्मान दिए जातें हैं उसकी राशि भी सम्मान जनक नहीं होती, केवल प्रोत्साहन के भाव से ये पुरस्कार दिए जाते हैं। साहित्य अकादमियां इस दिशा में उदासीन हैं। भारतीय बाल साहित्यकारों को बिना भेद भाव एक मंच  पर आने की आवश्यकता है ताकि बाल साहित्य सृजन को सही दिशा मिल सके।

 

         आज एक खतरनाक प्रवृत्ति बाल साहित्यकारों में घर करती जा रही है…...तू मुझे सम्मानित कर,...मैं तुझे सम्मानित करुंगा….सैंकड़ों उदाहरण सामने हैं….इस वर्ष आपकी संस्था फलां बाल साहित्यकार को सम्मानित कर रही है… अगले वर्ष वो आपको सम्मानित करेंगे या आप मंचस्थ दिखाई देंगे। यह परंपरा भी बालसाहित्य के लिए एक  चुनौती बन कर सामने खड़ी है। कई बाल पत्रिकाओं का उद्देश्य येन  केन प्रकारेण सरकारी विज्ञापनों का जुगाड़ करना भर रह गया है….प्रतिवर्ष लाखों रूपयों के सरकारी विज्ञापन व संस्थाओं से प्राप्त कर उस राशि को बालकल्याण अथवा बालसाहित्य उन्नयन में कितना लगा रहे हैं, इस पर भी चर्चा होनी चाहिए। यह कहने का मतलब यह कत्तई नहीं समझा जाए कि सब जगह ऐसा ही हो रहा है। नहीं, बहुत लोग बालसाहित्य उन्नयन और बाल कल्याण के साथ साथ बालसाहित्य को बाल पाठकों तक पहुंचाने की मुहिम  व बालकों  को इससे जोड़ने के काम में समर्पण भाव से लगे हुए हैं, वे बधाई के पात्र हैं।

 

      हम सबको मिलकर बालसाहित्य को लेखकों, संपादकों, प्रकाशकों, समीक्षकों, पुरस्कार प्रदाता संस्थाओं और भाषणों के केंद्र से निकालकर इसके सही हकदार बच्चों तक पहुंचाने के लिए एक आंदोलन के रूप में कार्य करना होगा अन्यथा हम कितने ही बड़े बाल साहित्यकार हो जाएं...लेकिन बच्चों में पढ़ने लिखने की ललक पैदा न कर सके... अभिभावकों व बच्चों को पुस्तकों से जोड़ने को प्रेरित न कर सके  तो हमारी दर्जनों बाल केंद्रित पुस्तकें किस काम की ? आओ, हम सब मिलकर प्रण करें कि बालसाहित्य बच्चों तक पहुंचाने की मुहीम को यथार्थ के धरातल  पर साकार करेंगे। बालसाहित्य की सच्ची सेवा तभी होगी जब हम बालसाहित्य में उत्कृष्ट कार्य करने वाले लेखकों के साहित्य एवम पत्र- पत्रिकाओं को तन- मन- धन से सहयोग करें। आज साइबर युग में  हमें परंपरा और संस्कृति से जुड़ा बाल साहित्य बच्चों को उपलब्ध करवाना है। यह काम बाल साहित्यकर ही कर सकता है जो समाज को नई दिशा देता है। 

 

        आइए! हम अपने घर, परिवार, गली - मोहल्ले, गांव,शहर से ही बालसाहित्य को चुनौतियों से मुक्त कर, इस पवित्र कार्य की शुरुआत करें। अपनी ही पीठ थपथपाने से न हम महान साहित्यकार हो जाएंगे, न बाल साहित्य के प्रहरी कहलायेंगे और न ही इक्कीसवीं सदी के बच्चे हमें याद रखेंगे।

 

*राजकुमार जैन राजन,चित्रा प्रकाशन,आकोला - 312205, (चित्तौड़गढ़), राजस्थान,मो- 98282 19919