डॉ. दिलीप धींग को आचार्य नानेश सम्मान


चेन्नई। अंतरराष्ट्रीय प्राकृत अध्ययन व शोध केन्द्र के निदेशक साहित्यकार डॉ. दिलीप धींग को आचार्य नानेश स्मृति सम्मान-2019 से सम्मानित किया जाएगा। यह प्रतिष्ठित राष्ट्रीय सम्मान विचार मंच, कोलकाता की ओर से जैनविद्या और साहित्य के क्षेत्र में उनके सतत, सुदीर्घ व उत्कृष्ट योगदान के लिए प्रदान किया जाएगा। मंच के सचिव समाजसेवी सरदारमल कांकरिया ने बताया कि 8 दिसम्बर को कोलकाता में होने वाले सम्मान समारोह में डॉ. धींग को एक लाख रूपये की सम्मान-राशि, स्मृति-चिह्न आदि से नवाजा जाएगा। 
तमिलनाडु हिन्दी अकादमी के महासचिव डॉ. धींग को अब तक आचार्य हस्ती स्मृति सम्मान, आचार्य हस्ती अहिंसा अवार्ड, अणुव्रत लेखक पुरस्कार, कुन्दकुन्द ज्ञानपीठ पुरस्कार, आचार्य हस्ती करुणा वक्ता अवार्ड, जीतो सेवा अवार्ड, साहित्य मनीषी व सेवारत्न अलंकरण सहित दर्जनों सम्मान मिल चुके हैं। प्राकृत में विश्वविद्यालय स्वर्णपदक प्राप्त डॉ. धींग द्वारा लिखित-संपादित छोटी-बड़ी 66 पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं। उनकी अनेक पुस्तकों के अनेक संस्करण प्रकाशित हुए हैं तो कुछ कृतियों के गुजराती, मराठी, तमिल, कन्नड़, अंग्रेजी आदि भाषाओं में अनुवाद भी हुए हैं। 
1986 में स्थापित विचार मंच ने साहित्य, कला, संस्कृति, सेवा आदि विभिन्न क्षेत्रों की अनेक विभूतियों का सम्मान किया है। मंच से सम्मानित होने वाले साहित्यकारों में कन्हैयालाल मिश्र 'प्रभाकर', बालकवि बैरागी, प्रभाष जोशी, डॉ. लक्ष्मीमल्ल सिंघवी, डॉ. प्रभाकर श्रोत्रिय, डॉ. कुँअर बेचैन, तथागत राय, हृदयनारायण दीक्षित, अंबु शर्मा, विनय सागर आदि अनेक नाम हैं। आचार्य नानेश जन्मशती वर्ष में डॉ. धींग को यह सम्मान मिलना विशेष गौरव की बात है।(शाश्वत सृजन न्यूज़)