साँसों में है नाम उसी का


*डॉ नलिन


साँसों में है नाम उसी का


अपना इक इक काम उसी का


.

जैसा भी हो घर रहने को

लगता अब तो धाम उसी का

.

जिस पर रीझा जाता है मन

क्षणभंगुर यह चाम उसी का

.

भीतर सद्गुण , दुर्गुण का जो

देवासुर संग्राम उसी का

.

करता आना-जाना जग में

चक्र घूम अविराम उसी का

.

भोला भाला ही निश्छल है

होता आया राम उसी का

.

चाहे हस्त नलिन करुणा का

सिर पर आठों याम उसी का

 

*डॉ नलिन, कोटा